Cafe Coffee Day Owner Dead Body Found/कैफ़े कॉफ़ी डे के मालिक की डेड बॉडी मिली

Cafe Coffee Day Owner Dead Body Found/कैफ़े कॉफ़ी डे के मालिक की डेड बॉडी मिली


कैैफ़े कॉफी डे के मालिक वी जी सिद्धार्थ जो कि सोमवार से ही गायब थे उन का शव बुधवार सुबह 6 बजे मिला।लगभग 200 लोग उनकी तलाश मेंगलुरु के पास नेत्रावती नदी में कर रहे थे।
Image (businesstoday.in)
                                          Image (businesstoday.in)

पुलिसकर्मी, गोताखोर, तटरक्षक बल, और मछुआरों सहित 200 लोग नदी की उस जगह पर खोजबीन कर रहे थे जहाँ सिद्धार्थ के कूदने की आशंका थी। फिर दक्षिण कन्नड़ के उपायुक्त सशिकान्त सेंथिल ने घटनास्थल का जायजा करने के बाद कहा कि एक शव मिला है जो कि वी जी सिद्धार्थ कैफ़े कॉफ़ी डे के मालिक का लगता है।

वी जी सिद्धार्थ के गुमशुदगी की रिपोर्ट उनके ड्राइवर के द्वारा पुलिस थाने में कराई गई। ड्राइवर का कहना है कि उसके मालिक पुल से लापता हो गए थे। ड्राइवर का कहना है कि उसके मालिक कार से यह कह के उतरे थे कि उन्हें थोड़ी देर यही पर टहलना है यह कह के उन्होंने ड्राइवर को पुल के दूसरी तरफ इनतजार करने को बोल कर चले गए। परन्तु एक घंटा बीतने के बाद भी वे नही लोटे।

पुलिस को यह शक है कि सिद्धार्थ नदी में कूद गए होंगे,तभी ड्राइवर को वे वहां नही मिले थे।

आखिरी बार CFO से की थी बात:- 

पुलिस को मिली जानकारी के अनुसार सिद्धार्थ के लापता होने से पहले उन्होंने अपने CFO से बात की थी। यह भी सुनने में आ रहा है कि कैफ़े कॉफ़ी डे पर लगभग 7हजार करोड़ का लोन बकाया है। पुलिस को यह शक है,की बकाया लोन के कारण सिद्धार्थ में आत्महत्या करली।

क्या बात हुई CFO से:-

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यह कहा जा रहा है,की सिद्धार्थ ने अंतिम बार CFO से 56 सेकंड के लिए बात की थी, उस बातचीत में उन्होंने CFO को कंपनी का ख्याल रखने को कहा था। उस बातचीत के बाद उन्होंने अपना फ़ोन बन्द कर दिया था।

सिद्धार्थ ने एएनआई द्वारा ट्वीट किए गए पत्र में लिखा:-

हमारे निदेशक मंडल और कॉफी डे परिवार को, 37 वर्षों के बाद, कड़ी मेहनत के लिए मजबूत प्रतिबद्धता के साथ, प्रौद्योगिकी कंपनी में सीधे 30,000 नौकरियां पैदा कीं, जहां मैं इसकी स्थापना के बाद से एक बड़ा शेयरधारक रहा हूं। मैं अपने सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के बावजूद सही लाभदायक व्यवसाय मॉडल बनाने में विफल रहा।

मैं कहना चाहूंगा कि मैंने इसे अपना सब कुछ दिया है। मुझे उन सभी लोगों को निराश करने के लिए बहुत पछतावा है जिन्होंने मुझ पर अपना भरोसा रखा। मैंने लंबे समय तक लड़ाई लड़ी लेकिन आज मैंने हार मान ली है,क्योंकि क्योंकि मैं और दबाव नहीं ले सकता था।


बता दें कि सिद्धार्थ ने सीसीडी के निदेशकों और बोर्ड के कर्मचारियों को जाने से पहले एक और पत्र लिखा था , “प्रत्येक वित्तीय लेनदेन मेरी जिम्मेदारी है … कानून के प्रति मेरी और केवल मेरी जवाबदेही होना चाहिए.”

कैसे हुई कैफे कॉफी डे की शुरुआत?

कैफे कॉफी डे की शुरुआत जुलाई 1996 में बेंगलुरु की ब्रिगेड रोड से हुई. पहली कॉफी शॉप इंटरनेट कैफे के साथ खोली गई. इसके बाद सीसीडी ने देशभर में कॉफी कैफे के रूप में बिजनेस करने का निर्णय लिया. शुरुआती 5 वर्षों में कुछ कैफे खोलने के बाद सीसीडी आज देश की सबसे बड़ी कॉफी रिटेल चेन बन गई है. इस समय देश के 247 शहरों में सीसीडी के कुल 1,758 कैफे हैं. खास बात यह है कि कंपनी फ्रैंचाइजी मॉडल पर काम नहीं करती और सभी कैफे कंपनी के अपने हैं।
Cafe Coffee Day Owner Dead Body Found/कैफ़े कॉफ़ी डे के मालिक की डेड बॉडी मिली Cafe Coffee Day Owner Dead Body Found/कैफ़े कॉफ़ी डे के मालिक की डेड बॉडी मिली Reviewed by Deepak Dangi on July 31, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.